वर्ल्ड हेपेटाइटिस डे 2021: हेपेटाइटिस और लीवर कैंसर के बारे में आवश्यक जानकारी

हम सभी ने अपने दोस्तों या परिवार के चिकित्सक से हेपेटाइटिस टीकाकरण कार्यक्रम के बारे में सुना है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है?

Dr. Abhideep Chaudhary, Senior Director & HOD – HPB Surgery & Liver Transplantation, BLK-MAX Super Speciality Hospital, Delhi

हम सभी ने अपने दोस्तों या परिवार के चिकित्सक से हेपेटाइटिस टीकाकरण कार्यक्रम के बारे में सुना है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है? हेपेटाइटिस विश्व स्तर पर लिवर की सूजन के प्रमुख कारणों में से एक है और कैंसर से होने वाली मृत्यु के शीर्ष कारणों में से एक है लिवर कैंसर1। वायरल हेपेटाइटिस के वैश्विक बोझ के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए हर साल 28 जुलाई को विश्व हेपेटाइटिस दिवस मनाया जाता है।

हेपेटाइटिस बी और सी, इन दोनों संक्रमणों के कारण लगभग 1.1 मिलियन वैश्विक मर्त्यता के साथ हर 30 सेकंड में एक व्यक्ति हेपेटाइटिस से संबंधित बीमारी से मर रहा है2। भारत में, यह अनुमान लगाया गया है कि लगभग 45 मिलियन लोग हेपेटाइटिस बी से और 15 मिलियन हेपेटाइटिस सी से पीड़ित हैं3। उपचार नहीं होने पर यह संक्रमण कैंसर और लिवर फेलियर (लिवर की निष्क्रियता) जैसी गंभीर बीमारियों में बदल जाता है, जिसमें सर्जरी और लिवर ट्रांसप्लांट की आवश्यकता होती है। समय पर लीवर सिरोसिस/कैंसर के डायग्नोसिस से रोगी की स्थिति का बेहतर प्रबंधन हो सकता है और उसके जीवित रहने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए, वायरल हेपेटाइटिस, लीवर पर इसके प्रभाव, लक्षण और उपचार के विकल्पों के बारे में जागरूकता पैदा करना महत्वपूर्ण है।

डॉ. अभिदीप चौधरी, वरिष्ठ निदेशक और एचओडी – एचपीबी सर्जरी और लिवर ट्रांसप्लांटेशन, बीएलके-मैक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल, दिल्ली लिवर कैंसर के क्षेत्र में रोग और तकनीकी प्रगति के विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से बताते हैं।

हेपेटाइटिस क्या है?

यह एक वायरल संक्रमण है जो लिवर की सूजन का कारण बनता है। लिवर एक महत्वपूर्ण अंग है जो हमारे शरीर से टॉक्सिन्स को फ़िल्टर करता है. पोषक तत्वों को जज़्ब करने में मदद है, और पित्त का उत्पादन करता है जो कि पाचन में सहायता करता है। हालाँकि हेपेटाइटिस 5 प्रकार के होते हैं – ए, बी, सी, डी और ई लेकिन हेपेटाइटिस बी और सी विश्व स्तर पर और भारत में भी सबसे आम और पुराने संक्रमण हैं।

हेपेटाइटिस और लीवर कैंसर के बीच संबंध

हेपेटाइटिस संक्रमण लिवर की कोशिकाओं को नुकसान पहुँचाने और इसके फंक्शन बिगाड़ने के लिए जाना जाता है। यह लीवर सिरोसिस का कारण बन सकता है, जिसमें लिवर टिशू स्कार टिशू में बदल जाता है, जो कुछ समय में प्राइमरी लिवर कैंसर या हेपेटोसेलुलर कार्सिनोमा (एचसीसी) में बदल सकता है। एचसीसी महिलाओं की तुलना में पुरुषों में ज्यादा होता है और इसकी मर्त्यता दर भी अधिक है। हर साल  लगभग 7 लाख मौतें एचसीसी के कारण होती हैं।

जर्नल ऑफ क्लिनिकल एंड एक्सपेरिमेंटल हेपेटोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि उत्तर भारत में क्रोनिक हेपेटाइटिस बी वायरस संक्रमण, जिसमें नॉन-सिरोटिक लिवर की तुलना में सिरोटिक (76%) में ट्यूमर्स अधिक होते हैं, एचसीसी के विकास का एक प्रमुख कारण है3

लीवर कैंसर: लक्ष्ण

  • अचानक वज़न कम होना
  • भूख की कमी
  • मतली या उल्टी
  • पेट में दर्द
  • पेट में सूजन या तरल पदार्थ का निर्माण
  • खुजली
  • त्वचा और आंखों का पीला पड़ना

लीवर कैंसर के जोखिम के कारक:

  • अधिक मदिरा सेवन
  • ओबेसिटी
  • मधुमेह
  • जेनेटिक मेटाबॉलिक सिंड्रोम
  • धूम्रपान
  • नॉन-अल्कोहॉलिक फ़ैटी लिवर डिसीज़

लिवर कैंसर का उपचार

किसी भी बीमारी के सही इलाज और प्रबंधन के लिए सटीक डायग्नोसिस महत्वपूर्ण है। लिवर कैंसर के डायग्नोसिस और ट्यूमर का पता लगाने के लिए अल्ट्रासाउंड, एमआरआई या सीटी स्कैन का उपयोग किया जाता है। एचसीसी से संभावित आरोग्य के उपचार हैं सर्जिकल विभाजन, पर्क्युटेनिअस ऐब्लेशन और लीवर प्रत्यारोपण. यदि कैंसर कोशिकाएँ या ट्यूमर पाए जाएँ, तो आवश्यक है कि लिवर के संक्रमित हिस्से को सर्जरी के सहारे काट कर निकाल दिया जाए, ताकि उनकी पुनरावृत्ति को कम करने, रोगी के जीवन की गुणवत्ता और जीवित रहने की दर में सुधार में मदद मिल सकती है। गंभीर मामलों में या लीवर सिरोसिस संबंधित मामलों में लिवर ट्रांसप्लांट की आवश्यकता हो सकती है।

हालाँकि पारंपरिक डायग्नोस्टिक तकनीक लंबे समय से ट्यूमर का पता लगाने में सर्जनों की सफलतापूर्वक मदद कर रही है, तथापि इंडोसायनिन ग्रीन (आईसीजी) के साथ फ्लोरोसेंस इमेजिंग (एफआई) जैसे तकनीकी नवाचार के कारण रीयल-टाइम में ट्यूमर के चित्र और छोटे और सतही ट्यूमर का पता लगाने से लीवर सर्जरी में क्रांति आ गई है। 94-100%4 की सफलता दर के साथ, फ्लोरोसेंस निर्देशित हेपेटेक्टोमी सर्जनों को अधिक सटीकता प्राप्त करने और रोगियों के लिए देखभाल में सुधार करने में सक्षम बनाता है।

इस प्रक्रिया में, रोगी को आईसीजी का इंजेक्शन लगाया जाता है, जो दुनिया भर के चिकित्सकों द्वारा व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली एक सुरक्षित और सस्ती हरी डाई है। कैंसर कोशिकाएँ रक्त से ICG अणु लेती हैं। बिगड़े हुए हरी डाई उत्सर्जन क्षमता के साथ, कोशिकाएँ इंफ़्रारेड रोशनी मोड में फ्लोरोसेंट हरे रंग का उत्सर्जन करती हैं। इस प्रकार, सर्जरी के दौरान स्वस्थ लिवर टिशू से कैंसर कोशिकाओं में अंतर देखने और उन्हें चुनिंदा रूप से हटाने (लिवर सेग्मेंटेक्टॉमी) में सर्जन की सहायता होती है।

लीवर सेगमेंटेक्टॉमी एचसीसी उपचार में देखभाल का एक तरीका है जो लिवर को बेहतर कार्यक्षमता देता है। एफआई लिवर सेगमेंट बाउंड्री के बराबर स्पष्ट सीमानकर रेखा बनाती है जिसकी बदौलत वर्तमान ब्लू डाई स्टेनिंग तकनीक की तुलना में खून के न्यूनतम  नुकसान के साथ सटीक रिमूवल का मार्गदर्शन मिलता है।

सटीक सर्जरी के साथ, ट्यूमर की पुनरावृत्ति के अवसर भी कम हो जाते हैं। क्योंकि हमारा लिवर दोबारा बनने की शक्ति से लैस है, यह कुछ ही हफ़्तों में अपने असली आकार और वज़न में आ जाता है।

हालाँकि, जैसा कि कहा जाता है कि ‘रोकथाम इलाज से बेहतर है’ – यह स्वस्थ जीवन शैली अपनाकर जिम्मेदार, समझदारीपूर्ण निर्णय करने, जोखिम मुक्त जीवन जीने और ऐंटीवायरलका ड्रग्स से वायरल हेपेटाईटिस का समय पर उपचार कराने का समय है। हेपेटाईटिस बी लिवर कैंसर के प्रमुख कारणों में से एक है और इसे हेपेटाईटिस बी के विरुद्ध सार्वजनीन टीकाकरण के द्वारा रोका जा सकता है. हेपेटाईटिस ए और ई का मुकाबला करने के लिए बेहतर स्वच्छता, कादया सुरक्षा और टीकाकरण सबसे प्रभाकारी तरीके हैं. सुरक्षित और प्रभावकारी वैक्सीन उपलब्ध हैं जो हेपेटाईटिस ए से आपकी रक्षा कर सकते हैं.

Facebook Comments